home
Shri Datta Swami

Bhakti Ganga (Presented by Shri Ajay)

English   Telugu    Hindi 

स्वामी द्वारा दिव्या वाणी

ज्ञान योग के लिए सद्ग्रंथ और सत्संग साधन है तो भक्तियोग के लिए भजन, कीर्तन साधन हैं । भक्ति सूत्रधारि श्री नारद महर्षि भजन कीर्तन गाने से सुर और असुर दोनों के पूजनीय तथा सम्माननीय बनगये । क्यों कि भजन कीर्तन से दुष्ट व्यक्ति भी प्रभावित होते हैं । भक्ति के बारे में श्री नारद महर्षि कहते हैं कि वह अनिर्वचनीय है । “जारवच्च ” और “यथा व्रज गोपिकानाम् ” सूत्रों में,भक्ति जार की लोलता (निष्ठा) के समान है और सच्चे भक्तों के रूप में गोपिकाओं को दिखाया । “ तन्मयाहि ते ” सूत्र में यह बताया कि भक्त की निष्ठा से भगवान खुश होकर उस पर आरोपित हो जाते हैं तो उसे कैवल्य प्राप्त होता है । सांसारिक बन्धन रूपी छ : पहाड़ पार करके भगवत् बंधन रूपी 7 वे पहाड़ पर स्थित अमृत भक्ति रूपी सरोवर में कम से कम एकबार डुबकी नहीं लगाए तो जीव का जन्म व्यर्थ होता है । ‘एकबार डुबकी लगा दूँ ! हे ! प्राणनाथ’ जैसे रस रम्य कीर्तन के साथ भक्ति गंगा में सिर्फ एकबार डुबकी लगा दो ।

 
 whatsnewContactSearch