home
Shri Datta Swami
 

English   Telugu    Hindi 

स्वामी द्वारा दिव्या वाणी

ज्ञान योग के लिए सद्ग्रंथ और सत्संग साधन है तो भक्तियोग के लिए भजन, कीर्तन साधन हैं । भक्ति सूत्रधारि श्री नारद महर्षि भजन कीर्तन गाने से सुर और असुर दोनों के पूजनीय तथा सम्माननीय बनगये । क्यों कि भजन कीर्तन से दुष्ट व्यक्ति भी प्रभावित होते हैं । भक्ति के बारे में श्री नारद महर्षि कहते हैं कि वह अनिर्वचनीय है । “जारवच्च ” और “यथा व्रज गोपिकानाम् ” सूत्रों में,भक्ति जार की लोलता (निष्ठा) के समान है और सच्चे भक्तों के रूप में गोपिकाओं को दिखाया । “ तन्मयाहि ते ” सूत्र में यह बताया कि भक्त की निष्ठा से भगवान खुश होकर उस पर आरोपित हो जाते हैं तो उसे कैवल्य प्राप्त होता है । सांसारिक बन्धन रूपी छ : पहाड़ पार करके भगवत् बंधन रूपी 7 वे पहाड़ पर स्थित अमृत भक्ति रूपी सरोवर में कम से कम एकबार डुबकी नहीं लगाए तो जीव का जन्म व्यर्थ होता है । ‘एकबार डुबकी लगा दूँ ! हे ! प्राणनाथ’ जैसे रस रम्य कीर्तन के साथ भक्ति गंगा में सिर्फ एकबार डुबकी लगा दो ।

Showing 1 – 20 of 65 Bhajans in Hindi

1. स्वामी जी का दिव्य संदेश

2. ॥श्री दत्त गुर्वष्टकम्॥

3. ॥श्री नरसिंह नमनम्‌॥

4. ॥उद्वेगरहित॥

5. ॥ श्री दत्त सत्यशायि शरणाष्टकम् ॥

6. वन्देति रम्यं । विश्वैक गम्यम् ।

7. ॥श्री दत्त स्त्रोत्रमाला॥

8. ॥ ब्रह्मास्त्र स्तुति॥

9. ॥ विष्णुचक्र स्तुति॥

10. ॥ श्री महालक्ष्मी स्तोत्रम् ॥

11. ॥ मुञ्च मुञ्च कृष्णं – वञ्चकं तमेकम् ॥

12. ॥ श्री नरसिंह सरस्वती स्तोत्रम् ॥

13. ॥कामये कालाग्नि शमनम्॥

14. ॥ अत्रिजं शङ्करं ब्रह्मनारायणम् ॥

15. ॥ कामेश्वरि मयि करुणां कुरु ॥

16. ॥श्री दत्तगणपतिं भजे॥

17. ॥भज भज दत्तम्‌॥

18. ॥श्री-राम-कीर्तनम् - भज भज भास्कर ॥

19. ॥सङ्कटमोचन हनुमत् स्तुति॥

20. ॥किङ्करोऽस्मि तव शङ्कर॥


 
 
 whatsnewContactSearch